कोंडागांवबस्तर

;द्वारारू अपूर्वा त्रिपाठीए मां दंतेश्वरी हर्बल समूहद्ध ’विश्व प्रसिद्ध पर्यावरण फिल्म्स सीरीज ष्अर्थ मैटर्सष् की विशेषज्ञ टीम पहुंची बस्तर ष्मां दंतेश्वरी हर्बल फार्मएष्पर’

पर्यावरण से जुड़े गंभीर मुद्दों पर कई विश्व प्रसिद्ध फिल्मे बना चुकी है विश्व प्रसिद्ध पर्यावरणविद् फ़िल्म निर्माता श्माइक पांडेश् की यह संस्थाए’

’डॉ राजाराम त्रिपाठी व उनकी दुर्लभ औषधीय पौधों की कृषि की संघर्ष यात्रा पर बन रही है यह अंतरराष्ट्रीय फिल्म’

’काली मिर्च तथा आस्ट्रेलियन टीक के साथ ष्उच्च लाभदायक बहुस्तरीय ;खेती उलाबखेद्धष् के सफल कोंडागांव मॉडल को दिखाएंगे पूरी दुनिया कोए’

’बस्तर की स्वर कोकिला शिप्रा त्रिपाठी के द्वारा गाया हुआ बस्तर का लोकगीत भी शामिल होने जा रहा है इस फिल्म मेंए’

’मानव निर्मित वन में संरक्षित 300 से भी ज्यादा दुर्लभ वनौषधियों वाले ष्इथनो मेडिको हर्बल गार्डनष् को भी कैमरे में करेंगे कैदए’

’भारत में दूरदर्शनए प्रसार भारती भारत सरकार के द्वारा किया जा रहा है ष्अर्थ मैटर्सश् सीरीज का प्रसारणएष्

यूं तो देश विदेश के प्रगतिशील किसानों के लिए कोंडागांव का ष्मां दंतेश्वरी हर्बल फार्म तथा रिसर्च सेंटरष् किसी तीर्थ स्थल से कब नहीं माना जाता। आए दिन यहां देश के अलग.अलग भागों से जैविक खेती तथा औषधीय पौधों की खेती करने वाले किसानए वैज्ञानिकए शोधार्थी गण यहां की जैविक हर्बल खेती तथा विशेष रूप से आस्ट्रेलियन टीक व कालीमिर्च की युगलबंदी के साथ ष्उच्च लाभदायक बहुस्तरीय खेती ;उलाबखेद्ध के सफल माडल को देखनेए सीखने के लिए आते ही रहते हैं। देश के माननीय राष्ट्रपति श्री कलाम साहबए प्रदेश के मुख्यमंत्री जीए राज्यपाल जी सहित देश विदेश की कई नामचीन हस्तियां इन फार्म्स तथा रिसर्च सेंटर का भ्रमण कर चुकी हैं। इसी तारतम्य में इस बार पर्यावरण के मामलों पर विश्व प्रसिद्ध टीवी सीरीज ष्अर्थ मैटर्सष् के कई एपिसोड बना चुके विश्वप्रसिद्ध पर्यावरणविद् माईक पांडे की टीम शूटिंग हेतु दिल्ली से कोंडागांव ष्मां दंतेश्वरी हर्बल फार्म तथा रिसर्च सेंटरष् पहुंची हुई है। श्हर्बल किंगश् के नाम से मशहूर बस्तर के कृषि विशेषज्ञ डॉ राजाराम त्रिपाठी की औषधीय पौधों की खेती की उतार चढ़ावों से भरपूर संघर्ष यात्रा तथा सफलता पर बन रही यह अंतरराष्ट्रीय फिल्म सीरीज ष्अर्थ मैटर्सष् के आगामी एपिसोड्स में दिखाई जाएगी। भारत में इसका प्रसारण दूरदर्शनए प्रसार भारती भारत सरकार के द्वारा किया जा रहा है।
इसमें मुख्य रूप से डाक्टर त्रिपाठी द्वारा कोंडागांव व आसपास के कई गांवों के सैकड़ों आदिवासी किसान परिवारों के साथ मिलकर सामूहिक रूप से की जा रही काली मिर्च तथा आस्ट्रेलियन टीकए स्टीवियाए सफेद मूसलीए गुगलए अश्वगंधा के साथ अन्य दुर्लभ तथा विलुप्त प्राय लाभदायक मेडिसिनल प्लांट्स की खेती के साथ ही देश.विदेश में बहुचर्चित ष्उच्च लाभदायक बहुस्तरीय ;खेती उलाबखेद्धष् के सफल कोंडागांव मॉडल का फिल्मांकन कर पूरी दुनिया को दिखाया जाएगा। ष्अंतरराष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ प्न्ब्छ ष् के द्वारा जारी रेड डाटा बुक ;त्मक कंजं इववाद्ध में दर्ज की गई दुर्लभ तथा विलुप्तप्रायव खतरे में पड़ी वनौषधियों की प्रजाति ;त्म्ज् त्र त्ंतम म्दकंदहमतमक ज्ीतमंजमदमक च्संदजेद्ध को उनके प्राकृतिक रहवास में रोपणए संरक्षण तथा संवर्धन हेतुए यहां स्थित अपने 7 सात एकड़ जमीन पर पिछले 25 वर्षों तक लगातार कठोर परिश्रम कर तैयार किए गए मानव निर्मित वन में स्थित ष्इथनो मेडिको हर्बल गार्डनष् को भी इसमें फिल्माया जावेगा। मानव निर्मित इस वन में संरक्षित 300 से भी ज्यादा दुर्लभ वनौषधियों को भी कैमरे में कैद किया जा रहा है।
इस फिल्म की एक और खूबी यह है कि इस एपीसोड में बस्तर की स्वर कोकिला कहीं जाने वाली शिप्रा त्रिपाठी के द्वारा गाया हुआ बस्तर का लोकगीत भी सम्मिलित किया जा रहा है। इस एपीसोड में अनुराग त्रिपाठीए जसमती नेतामए कृष्णा नेताम शंकर नाग अन्य किसानों को औषधीय पौधों की खेती का प्रशिक्षण देते हुए दिखाई दे सकते हैं। वहीं बौद्धिक संपदा अधिकार व ब्रांड विशेषज्ञ अपूर्वा त्रिपाठी इनकी ग्लोबल ब्रांडिंगए गुणवत्ता तथा इनकी विपणन योजना पर प्रकाश डालते हुए दिखाई देंगी। इस एपिसोड की शूटिंग करने वाली विशेषज्ञ टीम तथा मां दंतेश्वरी हर्बल समूह का मानना हैए इस फार्म की अनूठी खूबसूरती ए यहां उगाई जा रही दुर्लभ वनौषधियां तथा इसकेे फिल्मांकन में लगी समूची टीम के द्वारा लगातार मेहनत कर बहाये जा रहे पसीने से यह तय है कि इस एपीसोड के जरिए कोंडागांव छत्तीसगढ़ की अनूठी हर्बल खेती का परचम पूरे विश्व में निश्चित रूप से लहराएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button