कोंडागांव

जिला अस्पताल में पहली बार सिकलसेल एवं एनिमिया से ग्रस्त मरीज के गर्भाशय का किया गया सफल आपरेशन

जिला अस्पताल में बुधवार को विकासखण्ड फरसगांव के ग्राम चिचाड़ी निवासी महिला के गर्भाशय ट्यूमर‘ का डाॅक्टरों द्वारा सफल आपरेशन किया गया। उक्त महिला पिछले एक सालों से मासिक चक्र के दौरान समस्या से गुजर रही थी और प्राथमिक स्वास्थ्य जांच के उपरांत स्वास्थ्य केन्द्र फरसगांव के डाॅक्टरों द्वारा उसे गर्भाशय में गांठ की जानकारी दी गयी थी।
जिला अस्पताल कोण्डागांव रेफर किया गया- कोण्डागांव जिला अस्पताल में विशेषज्ञ डाॅक्टरों द्वारा ईलाज के लिए रेफर कर दिया गया था। जिला अस्पताल में जांच के उपरांत डाॅक्टरों ने बताया कि महिला के गर्भाशय में लगभग 7-8 सेमी की गांठ है। जिसके कारण भविष्य में गंभीर स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं और बढ़ सकती है। इस संबंध में महिला के परिजनों द्वारा आर्थिक अक्षमता के कारण बाहर उपचार के लिए ना ले जा पाने की असमर्थमता जतायी गयी। जिस पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ टीआर कुंवर एवं जिला अस्पताल निरीक्षक सह सिविल सर्जन संजय बसाख के मार्गदर्शन में तीन विशेषज्ञों चिकित्सकों का दल तैयार कर आॅपरेशन पूर्व की तैयारियों एवं अन्य जांचों का कार्य प्रारंभ किया गया। प्रथमतया की गयी जांचों में डाॅक्टरों द्वारा महिला के शरीर में एनिमिया के कारण खून की कमी तथा सिकलसेल से भी पीड़ित होने के संबंध में ज्ञात हुआ।
चार खून की थैलियों का इंतजाम किया गया – शरीर में 05 ग्राम खून होने के कारण महिला का शरीर बहुत ही कमजोर हो चुका था। इसके उपचार के लिए पहले महिला को अतिरिक्त खून की पूर्ति के लिए चार खून की थैलियों का इंतजाम किया गया। रक्त चढ़ाने के पश्चात् स्त्री रोग विषेषज्ञ डाॅ माधव पटेल, डाॅ ऐषवर्या रेवाड़कर, निष्चेतना विषेषज्ञ डाॅ रामामोहन के द्वारा घण्टों चले जटिल आॅपरेशन को सफलतापूर्वक अंजाम देते हुए गर्भाशय की गांठों को निकाला गया। इस दौरान स्टाफ नर्स पुष्पलता, अर्चना, स्वप्नप्रिया भी उपस्थित रहे। इस आॅपरेशन के बाद वर्तमान में महिला पूर्णतः स्वस्थ है। जल्द ही जांच उपरांत उन्हें अस्पताल से छूट्टी दे दी जावेगी।
मरीजो को रेफर किया जाता था, – पूर्व में ऐसे मरीजों को उच्च चिकित्सालय मे रेफर किया जाता था, जिसके कारण मरीज की स्थिति गंभीर हो जाती थी। परंतु कलेक्टर पुष्पेन्द्र कुमार मीणा द्वारा जिले में स्वास्थ्य सुविधाओं को सुदृढ़ करने के लिये जिला अस्पताल के आधुनिकीकरण पर जोर देते हुए आधुनिक मशीनों एवं विशेषज्ञ डाॅक्टरों की भर्ती की गयी थी। जिसके पश्चात् जिला चिकित्सालय में भी जटिल बीमारियों का ईलाज अब संभव हो पा रहा हैै। पूर्व में भी जिला अस्पताल में गर्भाशय की गांठों से पीड़ित 13 मरीजों का उपचार किया जा चुका है। परंतु इस महिला के गर्भाशय में गांठों के साथ अन्य बीमारियों के होने से यह आॅपरेशन अत्यंत जटिल था । आॅपरेशन के उपरांत महिला एवं उनके परिजनों द्वारा डाॅक्टरों को साधुवाद दिया गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button